Wednesday, October 5, 2022
Home > Health And Beauty Tips > पैरों में नीली नसों का दिखना हो सकता है घातक

पैरों में नीली नसों का दिखना हो सकता है घातक

blue vein in legs

पैरों और हाथों में नसों का दिखना आम है लेकिन जरूरत से ज्यादा नसों का दिखना घातक हो सकता है। इन नसों का रंग हरा, नीला या बैंगनी हो सकता है। नीली नसें गंभीर स्वास्थ समस्या का संकेत हो सकती हैं।
इन नीली नसों को वैरिकोज वेन्स कहा जाता है। इन वैरिकोज वेन्स को अनदेखा करने से आगे चलकर समस्या बढ़ सकती है।

वैरिकोज वेन्स ?
वैरिकोज वेन्स मुख्यत: हाथ, पैर, एड़ी, टखने और पंजे में दिखाई देती हैं। यह सूजी हुई और अधिक मुड़ी हुई वो नसें होती हैं, जो नीले या गहरे बैगनी रंग की होती हैं। ये देखने में उभरी हुई होती हैं। इन नसों के आसपास स्पाइडर वेन्स होती हैं। ये नसें लाल और बैगनी रंग की होती हैं, जो दिखने में काफी पतली एवं बारीक होती हैं।
जब स्पाइडर वेन्स, वैरिकोज वेन्स को चारों ओर से घेर लेती हैं, तो उनमें दर्द और खुजली होने लगती है। वैरिकोज नसें ज्यादातर लोगों के लिए खतरनाक नहीं होती। लेकिन कुछ मामलों में इनसे कुछ गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

कारण :
नसों की दीवारे कमजोर हो जाने पर वेरिकोज नसें दिखने लगती है। जब ब्लड प्रेशर बढ़ता है तो उसके कारण नसों में दबाव बढ़ जाता है और वे चौड़ी होने लगती हैं। इसके बाद जैसे-जैसे नसें खिंचने लगती हैं, वैसे-वैसे नसों में एक दिशा में खून का प्रवाह करने वाले वॉल्व अच्छे से काम करना बंद कर देते हैं।
इसके बाद खून नसों में जमा होने लगता है और नसों में सूजन आने लगती है, मुड़ने लगती हैं और फिर वे त्वचा पर उभरी हुई दिखाई देने लगती हैं।

नसों की दीवार कमजोर होने के कारण :

*हार्मोन बैलेंस बिगड़ना।
*बढ़ती उम्र।
*अधिक वजन
*लंबे समय तक खड़े रहना।
*नसों पर पर दबाव पड़ना।

वैरिकोज वेन्स के लक्षण :
उभरी हुई मुड़ी हुई, सूजी हुई नीले या बैंगनी रंग की नसें ,पैरों में नसों के आसपास खुजली होना , पैरो में दर्द।

खतरा :
वैरिकोज नसें अधिकतर लोगों के लिए खतरनाक नहीं होतीं, लेकिन कुछ लोगों में इनसे गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं. अगर इनका इलाज न कराया जाए तो यह कुछ लोगों में अल्सर, ब्लीडिंग का भी कारण बन सकती है। वहीं, कुछ लोगों में वैरिकाज वेन्स उस स्थिति का भी कारण बन सकती हैं, जिस स्थिति में ह्रदय की खून को पंप करने की क्षमता प्रभावित हो जाती है।
वैरिकोज वेन्स की समस्या में खून में थक्के जमने की संभावना काफी अधिक हो जाती है। जो कि शरीर के लिए काफी खतरनाक हो सकता है।
खून में रुकावट से हार्ट संबंधित समस्याएं हो सकती हैं और कुछ मामलों में ब्लड प्रेशर बाधित होने से मौत तक हो सकती है।
अल्सर वैरिकोज नसों के पास की त्वचा पर विशेष रूप से टखनों के पास दर्दनाक अल्सर का कारण बन सकते हैं। इससे त्वचा पर घाव हो सकते हैं।

इलाज और सावधानियाँ :
*वैरिकोज वेन्स का इलाज ,लेजर थेरेपी या सर्जरी से हो सकता है।
*एक्सरसाइज करें।
*वजन कम करे।
*डाइट में हाई फाइबर लें और नमक का कम सेवन करें।
*हाई हील्स और टाइट जूते पहनने से बचें।
*पैरों में दर्द होने पर सोते समय पैरों के नीचे तकिया रखें।
*अगर अधिक देर से खड़े हैं, तो पैरों को आराम देने के लिए थोड़ी-थोड़ी देर में  बैठते रहें।

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *