Friday, December 14, 2018
Home > Politics News > राजस्थान बजट 2018 कर्ज माफी की घोषणा

राजस्थान बजट 2018 कर्ज माफी की घोषणा

राजस्थान बजट 2018  कर्ज माफी की घोषणा

जयपुरविधानसभा में मौजूदा सरकार का आखिरी चुनावी बजट पेश करते हुए मुख्यमत्री ने किसानों को बडी राहत दी है। वित्तमंत्री ने अपने बजट भाषण में किसानों का कर्ज माफी की घोषणा की। इसके साथ ही विपक्ष ने जमकर हंगामा कर दिया। विपक्ष ने मांग की सरकार किसानों का पूर्ण कर्ज माफ किया जाए।

हंगामा इतना जबरदस्त है कि मुंख्यमत्री को अपना बजट भाषणा को थोडे समय के लिए रोकना पड़ा। सत्ता पक्ष और विपक्ष में तीखी नोंक झोंक हो गई। बजट में किसानों 50 हजार तक के कर्ज माफी की घोषणा की।

इससे पहले सदन में जमकर हंगामा हुआ। कांग्रेस पार्टी के विधायको ने राजस्थान सरकार के बजट भाषण से पहले ही हंगामा कर दिया। विपक्ष ने कर्ज माफी को लेकर हंगामा कर दिया। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने विपक्ष से शांति बनाए रखने का आग्रह किया तब जाकर कुछ शांति बनी इसके बाद वित्तमंत्री ने अपना बजट भाषण पढ़ना शुरू किया।

बजट की प्रमुख घोषणाऐ
राजस्थान में किसानों पर 30 सितंबर तक के 50 हजार तक के लोन और ओवर ड्यू पर ब्याज की माफ होगा।
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि इससे राज्य सरकार पर आठ हजार करोड़ रुपए का भार आएगा। राज्य कृषि ऋण आयोग के गठन की घोषणा की। प्रतिपक्ष ने पूर्ण कर्जमाफी की घोषणा की मांग को लेकर हंगामा किया। इसके चलते मुख्यमंत्री को अपना बजट भाषण रोकना पड़ा।

राजस्थान विधानसभा में आज बजट पेश होने से पहले ही जमकर हंगामा हुआ। कांग्रेस ने काले कानून को वापस लेने की मांग को लेकर हंगामा किया। इस दौरान पक्ष और प्रतिपक्ष के बीच जमकर नोंकझोंक हुई।

सुबह 11 बजे सदन की कार्रवाई शुरू हुई। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने वित्त मंत्री के नाते जैसे ही सदन में बजट पढ़ना शुरू किया, प्रतिपक्ष के नेता रामेश्ववर डूडी खड़े हो गए और फिर काले कानून को वापस लेने की मांग करने लगे। इसका संसदीय कार्यमंत्री राजेंद्र राठौड़ समेत सत्तापक्ष ने विरोध किया। करीब पांच मिनट तक सदन में हंगामे की स्थिति बनी। इसके बाद अध्यक्ष ने हंगामा कर रहे सदस्यों को चेतावनी दी और बैठने की व्यवस्था दी। इसके बाद सदन सीएम ने अपना बजट भाषण पढ़ना शुरू किया।

– जैसलेमरऔर बाड़मेर को गुजरात के प्रमुख बंदरगाहों से जोड़ने के लिए नयी रेल लाइन बिछाई जाएगी।

सड़क क्षेत्र में
– सभी विधानसभा क्षेत्र में 15 किलोमीटर नयी सड़क बनायी जाएंगी।
– 2274 करोड़ की लागत से विभिन्न जिलों में नयी सड़कें बनायी जाएंगी।
– छह संभागीय मुख्यालयों व कई जिलों में आॅटोमेटेड ड्राइविंग ट्रेक बनाएं जाएंगें।
– दस करोड़ की लागत से सड़क सुरक्षा केन्द्र जयपुर में बनाया जाएगा।
– राजे का दावा 21 हजार किलोमीटर से ज्यादा सड़कें राजस्थान में बिछाई गई है।
– ग्रामीण गौरव पथ योजना को बताया मुख्यमंत्री गौरवमयी।

पेयजल क्षेत्र में

– 37 हजार करोड़ की लागत से राजस्थान में दूर किया जाएगा पेयजल संकट
– 13 जिलों में पेयजल संकट दूर करने के लिए मुख्यमंत्री राजे ने की घोषणा।
– डार्क जोन वाले क्षेत्रों को नदियों से जोड़क पेयजल संकट का होगा निदान।
– प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में 100 हैडपंप लगाए जाने का प्रस्ताव।
– पानी की समस्या से निपटने के लिए 500 नए आरओ प्लांट लगाएं जाएंगें।

सिंचाई क्षेत्र में
– 1698 करोड़ की लागत से सिंचाई विभिन्न जिलों में होंगे सिंचाई कार्य।
– बाढ़ बचाओ कार्य के लिए सात करोड़ रुपए का बजट।

बिजली क्षेत्र में
– 400 करोड़ के मुनाफे में आया बिजली निगम।
– नए सब स्टेशन लोकार्पण जल्द किए जाएंगें।
– 5000 करोड़ रुपए से ज्यादा के कार्य किए जा रहे है।
– दो लाख कृषि कनेक्शन आगामी वर्ष में दिए जाएंगें।
– सात लाख घरेलू नए कनेक्शन दिए जाएंगेंं

कृषि क्षेत्र में
– किसानों का ब्याज माफ किया गया।
– 30 सितंबर 2017 तक का 50 हजार कृषि ऋण एक बार के लिए माफ किए गए।
– राज्य सरकार पर 8000 करोड़ का भार पड़ेगा ऋण माफी से।
– ऋण माफी के लिए आयोग की घोषणा।
– मूल्य समर्थन खरीद के लिए 500 करोड़ का ब्याज मुक्त ऋण दिया जाएगा।
– 350 करोड़ की लागत से नए भंडार बनाए जाएंगें।
– कुंआ व नलकूपों के लिए जल हौज निर्माण के लिए 90 हजार का अनुदान मिलेगा।
– ग्रीन हाउस निर्माण के लिए विशेष दर्जे के किसानों को आगामी वर्ष में दस लाख का अनुदान मिलेगा।
– कृषि सबंधी कार्यों में गौवंश को बढ़ाने के लिए प्रत्येक जिले में नंदी गोशाला बनेगी।
– चारे की सहायता छह माह मिलेगी किसानों को।
– गोशाला में बायो गैस प्लांट के लिए मिलेगा अधिक अनुदान।

महिला क्षेत्र में
– आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का मानदेय बढ़ाया गया।
– करीब दो लाख मानदेय कर्मी लाभान्वित होंगी।
– आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का प्रिमियम सरकार देगी।
– राज्य सरकार का अंशदान बढ़ाया गया जिससे मानदेय कर्मी लाभान्वित होंगी।
– सेनेट्री पैड का वितरण करने के लिए प्रारंभ की जाएगी योजना।
– 76 करोड़ रुपए देगी नई योजना के लिए।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में
– कैथलैब का निर्माण विभिन्न मेडिकल कॉलेजों में बनाएं जाएंगें।
– मातृ व शिशु स्वास्थ्य ईकाईयों में 18 करोड़ की लागत से सेंट्रल आॅक्सीजन ईकाई।
– 60 करोड़ की लागत से अस्पतालों में फायर सिस्टम लगाए जाएंगें
– जिला चिकित्सालयों में रुफटॉप सोलर सिस्टम लगाएं जाएंगें।
– अस्पतालों में बैड की संख्या बढ़ाई जाएगी।
– 28 नए पीएचसी खोली जाएंगी व क्रमोन्नत किया जाएगा 120 करोड़ की लागत
– पांच हजार से ज्यादा नर्सिंगकर्मियों की भर्ती की घोषणा।
– नयी डायलासिस मशीनें लगाई जाएंगी।
– 1000 नर्सिंग ट्रेनी कर्मी की भर्ती की घोषणा।
– आयुर्वेद कॉलेज उदयपुर में नए पाठ्यक्रम की घोषणा।

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *